Wednesday, 25 May, 2022

भारतीय धरा पर सुगंधित व औषधी फूल-पौधों का दुर्लभ खजाना

*अल्पना साहा एवं अजय शर्मा
रिसर्च स्कॉलर, CSIR-NIScPR

न्यूजवेव @ नई दिल्ली
वर्षों से सुगंधित फूल-पौधों ने भारतीय लोगों के जीवन में अहम भूमिका निभाई हैं। माथे पर चंदन का तिलक, बालों में मोगरा-गजरा, शरीर और कपड़ों पर तरह-तरह के इत्र लगाने जैसी भूमिका यहां के फूल-पौधे बखूबी निभाते हैं।
भारत, नेपाल और भूटान के हिमालय में कई स्थानीय सुगंधित पौधे पाए जाते हैं।  जम्मू और कश्मीर के हिमालय में पाए जाने वाले 26 कुलो में लगभग 120 सुगंधित पौधे वितरित हैं, सुगंधित पौधों से प्राप्त तेल में न केवल सुखद सुगंध होती हैं, बल्कि उनमें कई औषधीय मूल्य भी होते हैं।

प्रस्तुत है इनमें से कुछ खास पौधों की विशेष जानकारी

Achillea Millefolium L (Asteraceae) यह जम्मू और कश्मीर में पाया जाता हैं और इस क्षेत्र के लोग मूत्रवर्धक के रूप में इस पौधे के अर्क का उपयोग करते हैं तथा सर्दी और बुखार के इलाज के लिए पत्तियों और फूलों का उपयोग किया जाता हैं।


Acorus calamus L (Araceae) उत्तराखंड और जम्मू और कश्मीर दोनों में पाया जाता हैं। इन जगहों के लोग घाव और सूजन पर सूजन को कम करने के लिए प्रकंद पेस्ट का इस्तेमाल करते हैं।
Eggle Marmelos (L) Corrêa (Rutaceae) उत्तराखंड के कुमाऊं के लोगों के बीच एक प्रसिद्ध पौधा हैं। इस पौधे के फलों का उपयोग उल्टी, पेचिश और दस्त जैसे पाचन विकारों के इलाज के लिए किया जाता हैं।


Ageratum conyzoides L (Asteraceae) भी कुमाऊं उत्तराखंड में पाया जाता हैं। भारत में लोग रक्तस्राव को रोकने के लिए और दाद, खुजली, घाव, जलन, फोड़े और कट जैसे त्वचा रोगों के इलाज के लिए पत्ती के अर्क का उपयोग करते हैं।
Ageratum Houtianum Milling (Asteraceae) भारत के हिमालय के सभी क्षेत्रों में पाई जाती हैं। इसके रस का उपयोग बाहरी रूप से कटने और घावों के उपचार के लिए किया जाता हैं।
Zanthoxylum armatum DC (Rutaceae) : यह हिमाचल प्रदेश से हैं। इस पौधे की छाल का प्रयोग दांत दर्द में किया जाता हैं।
Vitex negundo L (Verbenaceae) हिमाचल प्रदेश और जम्मू और कश्मीर दोनों पहाड़ियों में पाया जाता हैं। लोग सुगंधित पत्तियों का उपयोग शक्तिवर्धक औषध और कृमिहर औषधि के रूप में करते हैं। स्थानीय लोग पेट दर्द के लिए पत्तों का रस पीते हैं।
Valeriana hardwicki (Caprifoliaceae) : यह उत्तराखंड का स्थानीय पौधा हैं। उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले के स्थानीय लोग मलेरिया के इलाज के लिए पौधे के अर्क का उपयोग करते हैं; फोड़े के इलाज के लिए पत्ते के पेस्ट का बाहरी रूप से उपयोग किया जाता हैं।
Observer Spectral LLC यह पौधा उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले का हैं। उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले के जातीय लोग खांसी और अस्थमा के इलाज के लिए मौखिक रूप से पौधे के रस का उपयोग करते हैं; गठिया के इलाज के लिए पौधे का पेस्ट बाहरी रूप से प्रयोग किया जाता हैं।


Skimia Latnae (Rutaceae) यह उत्तराखंड से हैं और इसमें बहुत मीठी गंध होती हैं। उत्तराखंड में, पत्ते धूप के रूप में प्रयोग किया जाता हैं।
Skimiaon QuertileTel and Airi Alag (RuTC) उत्तराखंड का एक पौधा हैं और इसमें बहुत ही ताज़ा मीठी महक होती हैं। स्थानीय लोग सिर दर्द और ताजगी के लिए इसके पत्तों का आसव लेते हैं।
Mentha flafolia (L.) Hoods. (Lamiaceae) जम्मू और कश्मीर में पाया जाता हैं। इसके पत्तियों के रस रोगाणुरोधक के रूप में कटने और घावों पर भी लगाया जाता हैं।


ऐसे उपयोगी पौधों से पता चलता हैं कि भारत में आर्थिक लाभ के लिए इन वनों और दुर्लभ पौधों की खेती को व्यावसायिक स्तर पर बढ़ाने में काफी संभावनाएं हैं। पौधों के नृवंश विज्ञान संबंधी उपयोगों के साथ आवश्यक तेलों की जैविक गतिविधियों से संबंधित जानकारी की देश में कमी बनी हुई हैं। औषधीय पौधों के पारंपरिक उपयोगों का समर्थन करने वाली जैविक गतिविधियों से जुड़े फाइटो केमिकल्स की पहचान करने के लिए बहुत अतिरिक्त काम किया जा सकता हैं। इस समय अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आवश्यक तेलों, हर्बल दवाओं और फार्मास्यूटिकल्स की बहुत मांग हैं और भारत इस मांग को भुनाने में सक्षम हैं।

(Visited 159 times, 1 visits today)

Check Also

RTI के जरिए कैसे हो सरकारी सिस्टम में बदलाव

सूचना के अधिकार पर 99वीं राष्ट्रीय वेबिनार में पूर्व सूचना आयुक्तों ने कहा- सरकारी विभागों …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: