Sunday, 7 March, 2021

हाडौती में 219 कौओं की अचानक मौत, बर्ड फ्लू का खतरा बढ़ा

न्यूजवेव @ कोटा
हाडौती के तीन जिलों कोटा, झालावाड एवं बारां में पिछले एक सप्ताह में 219 कौओं की अचानक मौत हो जाने से क्षेत्र में बर्ड फ्लू का खतरा मंडराने लगा है। राज्य सरकार ने रविवार को अधिकारियों की एक आपात बैठक बुलाई। पशुपालन मंत्री लालचंद कटारिया ने कहा कि घटना को गंभीरता को देखते हुये निरंतर मॉनिटरिंग की जा रही है। वन्यजीव विभाग ने कई कौओं की अचानक मौत हो जाने पर क्षेत्र में बर्ड फ्लू अलर्ट जारी किया है तथा नियंत्रण के लिये एडवाइजरी भी जारी की गई है।
कटारिया ने कहा कि यह गंभीर मुद्दा है, जिस पर त्वरित कार्यवाही दल की टीमें नियमित निगरानी कर रही है। कुछ दिन पहले झालावाड में राडी के बालाजी परिसर में 50 कौओं की मौत हो जाने के बाद जांच रिपोर्ट में बर्ड फ्लू की पुष्टि की गई है। झालावाड जिले के विभिन्न हिस्सों में 100 कौओं की अचानक मौत हो जाना चिंताजनक है।
राज्य के प्रमुख शासन सचिव कुंजी लाल मीणा ने बताया कि अब तक कोटा, झालावाड व बारां जिले में कुल 219 कौओं की मौत हो चुकी है। इनमें कोटा जिले के रामगंजमंडी, मोडक स्टेशन व सुकेत में 47, झालावाड जिले में झालावाड, पनवाड व सुनेल में 100 में एवं बारां जिले के माथना में कौओं की 72 मौतें हुई है। बूंदी में कोई मौत नहीं हुई है। हम प्रभावित क्षेत्रों में जागरूकता एवं स्थिति पर नियंत्रण के लिये प्रयास कर रहे हैं।
इसी तरह, राज्य में नागौर जिले में 1 जनवरी को 52 मोर एवं 100 पक्षियों की अचानत मौत हो गई। जिनके कारणों का पता नहीं चल सका है। झालावाड जिले के पनवाड गांव में 60 मुर्गियों की मौत हो गई है। अकारण हुई मौत की इन घटनाओं से सर्दी के मौसम में राज्य के जल सघन क्षेत्रों में अप्रवासी पक्षियों के आगमन और उनकी सुरक्षा को लेकर चिंतायंे और बढ गई हैं। इधर, शनिवार व रविवार को कोटा जिले में तेज हवाओं के साथ बरसात होने से शीत लहर का प्रकोप बना हुआ है।

(Visited 38 times, 1 visits today)

Check Also

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला करेंगे चतुर्थ धनिया सेमिनार का शुभारंभ

28 फरवरी को कई राज्यों के धनिया व्यापारी, मसाला उत्पादक व कृषि विशेषज्ञ कोटा आयेंगे …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: