Wednesday, 25 November, 2020

शहीद हेमराज की वीरांगना ने रातभर सिंदूर नही पोंछा

शहादत को सलाम – राजस्थान में कोटा जिले के विनोद खुर्द गाँव का वीर सपूत  हेमराज मीणा

न्यूजवेव @कोटा

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में शहीद हुए कोटा जिले के विनोदखुर्ज गांव के वीर सपूत हेमराज मीणा सीआरपीएफ में हेड कांस्टेबल थे। 14 फरवरी को रात 10 बजे उनकी पत्नी मधु को जम्मू केम्प से फोन पर सूचना मिली कि हेमराज आतंकी हमले में शहीद हो गए हैं। पत्नी अवाक रह गई लेकिन रात हो जाने से बुजुर्ग पिता और अपने चारों बच्चों को यह सूचना नही दी। खुद ने हिम्मत जुटाकर हेमराज के बड़े भाई रामविलास को गांव से घर बुलाया। तब तक हौसला रखते हुए इस वीरांगना ने अपनी मांग का सिंदूर भी नही पोंछा।

वीरांगना के साथ दो बेटे-दो बेटियां हैं

शहीद हेमराज 12 फरवरी को ही छुटियाँ बिताकर ड्यूटी पर लोटे थे। पिता हरदयाल व मां रतना बाई यह खबर सुनकर बिलख पड़े। गांव के हर घर मे मातम छा गया। शहीद की बड़ी बेटी रीना(17) बीए प्रथम वर्ष और छोटी बेटी टीना (15) 9वीं में पढ़ रही है। बड़ा बेटा अजय (13) 5वीं में है, सबसे छोटा ऋषभ अभी 6 साल का। है। कश्मीर में बारिश होने से परिजन व ग्रामीण अपने सपूत के शव के पहुंचने का इंतजार कर रहे हैं।

..अब करो पाक पर प्रहार

हाडौती के लाल हेमराज मीणा की शहादत पर कोटा सहित समूचे अंचल में जगह-जगह कैंडल जलाकर श्रद्धांजलि दी जा रही है। आम जनता आतंकियों की इस नापाक हरकत से स्तब्ध हैं। हेमराज के भाई रामविलास ने कहा कि एक भाई शहीद हुआ है, अभी तो तीन भाई जिंदा है। उन्होंने प्रधानमंत्री से कहा कि ’56 इंच का सीना रखते हो तो पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दो। बस करो, अब बहुत हो चुका नरसंहार। पाकिस्तान पर करो प्रहार।’

शहीदों को दिल से नमन

कोटा सम्भाग में भाजपा ने अपने सभी कार्यक्रमो को स्थगित कर दिया है। कई संस्थाएं जश्न के आयोजन रद्द कर रही हैं। आम जनता की संवेदनाएं शहीद परिवारों से जुड़ी है। शुक्रवार को कोटा के शहीद स्मारक पर सैंकड़ों नागरिक व सामाजिक संगठनो ने शहीद हेमराज सहित देश के वीर शहीदों को श्रद्धांजलि दी।

(Visited 70 times, 1 visits today)

Check Also

‘रिफॉर्म, परफॉर्म व ट्रांसफॉर्म’ पर फोकस है नया श्रम कानून

श्रमेव जयते के मंत्र पर संसद ने पारित किया नया श्रम कानून देश के 50 …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: