Wednesday, 15 July, 2020

देश के नवनिर्माण में शिक्षकों की भूमिका महत्वपूर्ण- ओम बिरला

लोकसभा अध्यक्ष की पहल पर सेवानिवृत्त शिक्षक सम्मान समारोह में एचएचआरडी मंत्री ने शिक्षकों को सम्मानित किया
न्यूजवेव @ कोटा

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि भारत के नवनिर्माण में संस्कारित एवं राष्ट्रवान नौजवान तैयार करने जैसी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी शिक्षकों पर है। रविवार को सेवानिवृत्त शिक्षक सम्मान समारोह में कोटा जिले के 2500 से अधिक शिक्षकों को सम्मानित किया गया। जिसमें 65 वर्ष से 95 वर्ष की उम्र के शिक्षक शामिल हुये।


बिरला ने कहा कि भारतीय संस्कृति में गुरु का स्थान पहला है। देश की नई पीढी को शिक्षा व संस्कार देकर शिक्षक उन्हें राष्ट्रसेवा करने वाले अच्छे इंसान बना रहे हैं। दुनिया में किसी देश को उसकी शिक्षा पद्धति और जीवन मूल्यों से परखा जा सकता है। शिक्षक उस दीपक की तरह हैं, जो स्वयं जलकर हमेशा दूसरों को आलोकित करने का प्रयास करते हैं।


लोकसभा अध्यक्ष ने अपने गुरू प्रभुनारायण गुप्ता, आर.पी. गुप्ता एवं प्रेमनारायण शर्मा का आशीर्वाद लेकर उनका अभिनंदन किया।

इस मौके पर कोटा दक्षिण विधायक संदीप शर्मा, रामगंजमंडी विधायक मदन दिलावर, पूर्व विधायक हीरालाल नागर, पूर्व कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी, महापौर महेश विजय, जन अभाव अभियोग समिति के पूर्व अध्यक्ष एस.एन.गुप्ता आदि मौजूद रहे। एलन कॅरिअर इंस्टीट्यूट के निदेशक गोविन्द माहेश्वरी, राजेश माहेश्वरी, नवीन माहेश्वरी एवं बृजेश माहेश्वरी ने अतिथियों का स्वागत किया।
शिक्षा का तीर्थ है कोटा
मुख्य अतिथि केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश निशंक पोखरियाल ने कहा कि आज कोटा का नाम पूरे देश में गर्व से लिया जाता है। शिक्षा का तीर्थ होने के साथ ही लोकसभा अध्यक्ष भी इसी शहर से हैं। शिक्षक किसी भी राष्ट्र की रीढ होते हैं। शिक्षक सम्मान समारोह में भाग लेने की सूचना मिली तो मैं खुद को नहीं रोक सका।
भावुक होकर गले मिले शिक्षक
समारोह में अधिकांश शिक्षक एक-दूसरे से गले मिलकर भावुक हो उठे। उन्होने स्कूल या कॉलेज में साथ अध्यापन कार्य किया था। सेवानिवृत्त शिक्षकों ने ऐसे आयोजन के लिए लोकसभा अध्यक्ष बिरला का आभार जताया। सेवानिवृत्त शिक्षकों का तिलक,नारियल एवं शॉल के साथ स्वागत किया गया।

(Visited 52 times, 1 visits today)

Check Also

नई अर्थनीति की व्यूहरचना बनानी होगी – डॉ. मोहन भागवत

‘वर्तमान परिदृश्य में हमारी भूमिका’ : – स्वदेशी उत्पादन से स्वावलम्बन को अपनायें, विदेशी अवलम्बल …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: