Friday, 23 February, 2024

कोटा एयरपोर्ट भूमि से विद्युत लाइन शिफ्टिंग के लिए 39 करोड़ जमा करवाए

स्पीकर ओम बिरला के प्रयासों से जारी हुई स्वीकृति
न्यूजवेव@कोटा

कोटा में ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट के निर्माण में आई बाधाएं लगातार दूर हो रही हैं। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के प्रयासों से वन भूमि के डायवर्जन के बाद अब चिह्नित भूमि पर स्थित पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन की लाइनों को शिफ्ट करने के लिए भी राज्य सरकार ने 39.92 करोड रुपए की स्वीकृति दे दी है।


शंभूपुरा में एयरपोर्ट के निर्माण के लिए चिह्नित की गई भूमि पर से पावर ग्रिड कॉरपोरेशन आफ इंडिया की लाइन भी गुजर रही हैं। एयरपोर्ट निर्माण के लिए इन लाइनों को शिफ्ट किया जाना बहुत जरूरी है। लाइन शिफ्टिंग के लिए भी राज्य सरकार को 39.92 करोड रुपए जमा करवाने थे लेकिन तत्कालीन कांग्रेस सरकार इस राशि को जमा करवाने में भी टालमटोल करती रही। पावर ग्रिड कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया ने राज्य सरकार को करीब 18 स्मरण पत्र भेजे परंतु राज्य की तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने उन पत्रों का जवाब तक देना उचित नहीं समझा।
लेकिन अब सत्ता परिवर्तन होने के साथ ही कोटा ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट की राह में आगे ही बढ़ाया दूर होने का सिलसिला प्रारंभ हो गया है।

स्पीकर ओम बिरला के प्रयासों से राज्य सरकार के वित्त विभाग ने शुक्रवार को नागरिक उड्डयन विभाग को आदेश जारी कर पावर ग्रिड की लाइन शिफ्ट करने के लिए 39.92 रुपए विभागीय मद से ही जमा करवाने के आदेश दिए हैं। यह राशि जमा होने के बाद अब पावर ग्रिड की लाइन शिफ्ट करने की प्रक्रिया भी प्रारंभ हो जाएगी।
UIT ने डायवर्जन के 39 करोड़ जमा करवाए
स्पीकर ओम बिरला द्वारा गुरुवार को राज्य सरकार के मुख्य सचिव को दिए गए निर्देशों के बाद नगर विकास न्यास ने शुक्रवार को डायवर्जन राशि के 39 करोड रुपए जमा करवा दिए। यह राशि नगर विकास न्यास द्वारा करीब डेढ़ वर्ष पूर्व ही जमा हो जानी चाहिए थी। डायवर्सन राशि जमा करने के मामले में भी एयरपोर्ट अथॉरिटी लगातार नगर विकास न्यास को पत्र लिख रही थी। परंतु राज्य की तत्कालीन कांग्रेस सरकार के दबाव में ऐसा नहीं हो सका। इस मामले में स्पीकर बिरला ने गुरुवार को मुख्य सचिव को निर्देश दिए थे, इसके बाद मुख्य सचिव ने जिला कलेक्टर को तत्काल राशि जमा करवाने को कहा था। इसके बाद गुरुवार को पूरा दिन नगर विकास न्यास के सभी अधिकारी किसी भी तरह राशि जमा करने के लिए भाग दौड़ करते रहे और देर श्याम ऑनलाइन माध्यम से 39 करोड़ की राशि ट्रांसफर कर दी गई।

(Visited 46 times, 1 visits today)

Check Also

राजस्थानी मसाले औषधि गुणों से भरपूर, एक्सपोर्ट बढाने का अवसर – नागर

RAS रीजनल बिजनेस मीट-2024 : मसाला उद्योग से जुड़े कारोबारियो ने किया मंथन, सरकार को …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: