Tuesday, 28 September, 2021

इस वर्ष नीट-यूजी,2021 परीक्षा में दो बडे़ बदलाव

NTA द्वारा 12 सितंबर को होने वाली मेडिकल प्रवेश परीक्षा NEET-UG में एक समान परसेंटाइल होने पर रैंकिंग तथा पेपर पैटर्न में बदलाव किये
न्यूजवेव @ नई दिल्ली/कोटा
नेशनल टेस्टिंग एजेंसी द्वारा नीट-यूजी,2021 में इस वर्ष पेपर पैटर्न एवं परीक्षा में दो या अधिक विद्यार्थियों द्वारा एक समान अंक प्राप्त करने पर मेरिट सूची में ऑल इंडिया रैंक (एआईआर) निर्धारित करने के लिये बदलाव किये गये हैं। गत वर्ष एक समान अंक होने पर अभ्यर्थी की आयु सीमा के आधार पर रैंक निर्धारित की गई थी जबकि इस वर्ष एनटीए ने दो या इससे अधिक विद्यार्थियों के एक समान परसेंटाइल अंक होने पर उनकी टाई-ब्रेकिंग बॉटनी, जूलॉजी एवं केमिस्ट्री में प्राप्तांक के आधार पर तथा अंत में परीक्षा में सभी विषयों मंे सही उत्तर अधिक होने तथा गलत उत्तर कम से कम होने के आधार पर ऑल इंडिया रैंक निर्धारित की जायेगी।


उल्लेखनीय है कि गत वर्ष नीट-यूजी,2020 परीक्षा में एक समान 720 अंक प्राप्त करने पर एक छात्र शोएब आफताब को अधिक उम्र होने से एआईआर-1 तथा एक छात्रा आकांक्षा सिंह को समान अंक होने पर भी उम्र कम होने से एआईआर-2 घोषित की गई थी, जिसे शिक्षाविदों ने अनुचित ठहराया था। एनटीए ने इस वर्ष परीक्षा में समान प्राप्तांक होने पर रैंकिंग में उम्र के स्थान पर योग्यता को आधार बनाया है। गत वर्ष नीट-यूजी में 15.97 लाख विद्यार्थियों ने आवेदन किया था, इस वर्ष यह संख्या 17 लाख से अधिक होने की संभावना है।
पेपर पैटर्न में भी बड़ा बदलाव
नेशनल मेडिकल कमीशन (NMC) के निर्देश पर एनटीए ने देश के विभिन्न स्कूल बोर्ड द्वारा सिलेबस में कुछ कमी किये जाने के बाद नीट-यूजी,2021 के पेपर पैटर्न में मामूली बदलाव किया है। पेपर 720 अंकों का होगा। इसके तहत चार विषयों के पेपर में दो-दोे सेक्शन में कुल 180 अंकों के 50 बहुविकल्प प्रश्न पूछे जायेंगे। फिजिक्स, केमिस्ट्री, बॉटनी एवं जूलॉजी प्रत्येक विषय में सेक्शन-ए में 140 अंकों के 35 प्रश्न होंगे। जबकि सेक्शन-बी में 40 अंकों के 15 प्रश्न पूछे जायेंगे, जिसमें से अभ्यर्थी को 10 प्रश्न हल करना होगा। प्रत्येक प्रश्न में सही उत्तर पर 4 अंक मिलेंगे तथा गलत उत्तर पर 1 अंक की कटौती होगी। इस 3 घंटे की पेन-पेपर परीक्षा में ओएमआर शीट में बॉल पाइंट पेन से उत्तर भरने होंगे।
भाषा का चयन सावधानी से करें
नीट-यूजी परीक्षा इस वर्ष 13 भाषाओं में होगी। आवेदन में प्रश्नपत्र की भाषा का चयन गंभीरता से करें। जो अभ्यर्थी इंग्लिश का विकल्प चुनेंगे, उन्हें सिर्फ इंग्लिश में ही पेपर दिया जायेगा। जबकि प्रश्नपत्र में हिंदी का चयन करने वाले अभ्यर्थियों को हिंदी व इंग्लिश दोनों में उपलब्ध होंगे। साथ ही, क्षेत्रीय भाषा चुनने वालों को प्रश्नपत्र क्षेत्रीय भाषा व इंग्लिश में उपलब्ध होगा। किसी प्रश्न में विवाद की स्थिति में इंग्लिश वर्जन के प्रश्न को अंतिम माना जायेगा।
25 वर्ष से अधिक उम्र वाले सिर्फ परीक्षा दे सकेंगे
एनटीए ने आयुसीमा के लिये स्पष्ट किया है कि 31.12.2004 को या इससे पहले जन्म लेने वालों की न्यूनतम आयु 17 वर्ष हो। अधिकतम उम्र सीमा 25 वर्ष है। लेकिन सुप्रीम कोर्ट में 2018 से अधिकतम उम्र की याचिका विचाराधीन होने से इस वर्ष भी 25 वर्ष से अधिक उम्र के अभ्यर्थियों को प्रोविजनल नीट-यूजी परीक्षा देने की छूट दी गई है। जबकि एससी, एसटी, ओबीसी-एनसीएल व दिव्यांग अभ्यर्थी 30 वर्ष की उम्र तक परीक्षा के लिये पात्र हैं।

(Visited 55 times, 1 visits today)

Check Also

2.50 लाख विद्यार्थी 3 अक्टूबर को देंगे जेईई-एडवांस्ड परीक्षा

न्यूजवेव @ नईदिल्ली /कोटा इस वर्ष देश की 23 आईआईटी की लगभग 16,500 सीटों के …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: