Thursday, 25 April, 2024

ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट भूमि से लाइन शिफ्टिंग की बाधा हुई दूर

-शंभूपुरा में चिन्हित भूमि पर पहुंचे स्पीकर बिरला, अधिकारियों से लिया फीडबैक

न्यूजवेव@कोटा

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के प्रयासों से कोटा ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट निर्माण की एक और बाधा बुधवार को दूर हो गई। शंभूपुरा में चिन्हित भूमि से गुजर रही हाई टेंशन लाइन के 34 टावर की शिफ्टिंग के लिए नगर विकास न्यास और पॉवर ग्रिड कॉर्पाेरेशन के बीच बुधवार को एमओयू हो गया।

कोटा-बूंदी दौरे पर आए लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने भी बुधवार को चिन्हित भूमि का निरीक्षण कर एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया, पावर ग्रिड कॉर्पाेरेशन और कोटा व बूंदी के जिला प्रशासन के अधिकारियों से फीड बैक लिया।

निरीक्षण के दौरान स्पीकर बिरला ने अधिकारियों से एयरपोर्ट की भूमि की स्थिति की जानकारी ली। इसके साथ ही जिला प्रशासन, एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया और पावर ग्रिड कॉर्पाेरेशन द्वारा अब तक किए गए कार्य के बारे में पूछा। उन्होंने कहा कि तीनों एजेंसियां अपने-अपने कार्य को जल्द से जल्द पूरा करने की कार्ययोजना बनाएं।

स्पीकर बिरला ने कहा कि कोटा में ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट का निर्माण हमारी प्राथमिकताओं में है। यह कार्य कोटा-बूंदी सहित सम्पूर्ण हाड़ौती के लिए कितना महत्वपूर्ण है इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि चिन्हित भूमि के हस्तांतरित होने से पहले ही एयरपोर्ट अथॉरिटी ने डीपीआर बनाने के कार्यादेश जारी की दिए। हम हाड़ौती को विश्व स्तरीय सुविधाओं वाला ऐसा एयरपोर्ट देना चाहते हैं जो क्षेत्र की प्रगति की संभावनाओं के नए द्वार खोलेगा।

कांग्रेस सरकार ने की देरी
इस दौरान लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने पिछली कांग्रेस सरकार पर एयरपोर्ट को लटकाने के लिए निशाना साधा। बिरला ने कहा कि एयरपोर्ट के लिए भार रहित जमीन उपलब्ध करवाना राज्य सरकार का दायित्व होता है। जमीन ट्रांसफर करने और बिजली की लाइनें शिफ्ट करने के लिए करीब 127 करोड़ रुपया राज्य सरकार को देना था, लेकिन 26 मई 2022 से 29 अगस्त 2023 के बीच वन विभाग, एयरपोर्ट अथॉरिटी और पावर ग्रिड कॉर्पाेरेशन द्वारा भेजे गए दो दर्जन से अधिक स्मरण पत्रों के बाद भी महज 21 करोड़ रूपए ही जमा करवाए गए। यदि कांग्रेस सरकार समय पर पैसे जमा करवा देती तो शायद अब तक निर्माण कार्य भी प्रारंभ हो चुका होता। राजस्थान में भाजपा सरकार बनने के बाद अब कोटा एयरपोर्ट से जुड़े सभी काम प्राथमिकता पर हो रहे हैं। हमारी कोशिश है कि निर्माण कार्य जल्द से जल्द प्रारंभ हो।

हाइटेंशन लाइन के 34 टॉवर होंगे शिफ्ट

एयरपोर्ट अथॉरिटी की मांग के अनुरूप चिन्हित भूमि की सीमा से चारों दिशाओं में विद्युत लाइनों को डेढ़ किमी या उससे दूरी पर शिफ्ट किया जाएगा। ऐसे में हाईटेंशन लाइन हटाने के लिए पॉवर ग्रिड कॉर्पाेरेशन 11 किलोमीटर क्षेत्र में फैले कुल 34 टावर्स को शिफ्ट करेगा। इनके जरिए राजस्थान परमाणु बिजली घर से जयपुर साउथ और कोटा से मेड़ता-ब्यावर को 400 केवी की दो ट्रांसमिशन लाइन्स के जरिए विद्युत आपूर्ति की जा रही है। इनके स्थान पर 46 नए टॉवर स्थापित किए जाएंगे, जिन पर 15.064 किमी लंबी ट्रांसमिशन लाइन बिछाई जाएंगी।

DPR हो रही तैयार
एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के अधिकारियों ने बताया कि लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के निर्देशों के अनुरूप डीपीआर तैयार करने का काम तेजी से किया जा रहा है। अथॉरिटी की कोशिश है कि लाइन शिफ्टिंग की प्रक्रिया पूरी होने तक डीपीआर तैयार करने के साथ अन्य आवश्यक प्रक्रियाओं को पूरा कर लिया जाए। जैसे ही पावर ग्रिड की ओर से सहमति मिले, अथॉरिटी तत्काल निर्माण कार्य प्रारंभ कर दे।

(Visited 77 times, 1 visits today)

Check Also

आपका एक-एक वोट देश को मजबूत करेगा – अमित शाह

न्यूजवेव @कोटा कोटा-बूंदी सीट पर चुनाव प्रचार के अंतिम दौर में शनिवार को भाजपा के …

error: Content is protected !!