Monday, 18 October, 2021

माता त्रिषला को मिला चौदह महास्वप्न का लाभ

पर्युषण पर्व का पंचम दिवस: लक्ष्मीजी की बोली रही मंत्री भाया परिवार के नाम
न्यूजवेव @ बारां
पर्वाधिराज पर्युषण पर्व की आराधना करवाने हेतु वर्धमान जैन नवयुवक मण्डल, जावरा से पधारे हुए भावेश बोहरा, संयम जैन एवं आदित्य जैन ने पर्व के पांचवे दिन कहा कि आज का दिन हमारे लिए सोने से भी अमूल्य है। आज कल्पसूत्र के वाचन के अंदर प्रभू महावीर के समय घटित हुए दस आश्चर्य का गहनता से से वर्णन किया।
उन्होंने माता त्रिशला द्वारा देखे गए 14 महास्वप्नों का वर्णन करते हुये किस स्वप्न का क्या लाभ होता है, इसके बारे में विस्तार से बताया। उन्होनें कहा कि गर्भवती महिलाओं को किस समय कैसा भोजन करना चाहिए, किस वक्त कैसा व्यवहार करना चाहिए। उन्होनें कहा कि जिस प्रकार माता त्रिशला इन सभी चीजों का ध्यान रखती थी, ठीक उसी प्रकार सभी गर्भवती महिलाओं को भी इनका पालन अवश्य करना चाहिए।


श्री जैन श्वेताम्बर समाज मूर्ति पूजक संघ के अध्यक्ष राजेन्द्र रंगावत ने बताया कि मंदिर पर भगवान के 14 स्वप्न तथा आरती, पंच प्रकार पूजा, माला, तिलक की बोलिया भी संघ की तरफ से ली गई जिसमें लक्ष्मी जी की बोली- प्रमोद जैन भाया केबिनेट मंत्री खान एवं गौपालन विभाग, श्रीमती उर्मिला भाया, यश पारख परिवार, भगवान के मुनीम जी की बोली गौत्तम, शीतल, यश मारू, पालना जी की बोली- अशोक, निर्मला, गौत्तम, रेखा, प्रवीण, यशोदा बोरडिया परिवार, दादा गुरूदेव की आरती की बोली- प्रमोद, प्रभा, राहुल, खुशबू मारू, तिलक लगाने की बोली बुद्विप्रकाश, अंगूरबाला, सचिन मारू, नाकोडा आरती की बोली मनोज, प्रदीप, कमल मारू, स्वप्न की बोली राजेन्द्र, दीपक, प्रीति, कपिल, रोशनी रंगावत, माला पहनाना स्वप्न की बोली कान्तिचंद, विजया, ललित, चेतना श्रीमाल तथा मां चकेश्वरी देवी की आरती की बोली नीरू, भावना श्रीमाल परिवार के नाम रही।
चन्द्रप्रभू महिला मण्डल अध्यक्ष श्रीमती उर्मिला जैन भाया ने बताया कि पर्युषण पर्व के दौरान शाम को श्री चंद्रप्रभू मंदिर पर भक्ति एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। चन्द्रप्रभू महिला मण्डल द्वारा आयोजित प्रतियोगिता पक्षाल, पूजा, आरती प्रतियोगिता में प्रथम प्रीतम बोरडिया, द्वितीय एवन्ता मारू तथा तृतीय स्थान यश बोरडिया का रहा। मंगलवार की स्नात्र पूजा कपिल, रोशनी रंगावत की तरफ से सम्पन्न हुई। भोजन प्रमोद, उर्मिला, यश पारख की तरफ से रहा। पर्युषण पर्व पर आयोजित कार्यक्रम में श्रीसंघ उपस्थित रहा।

(Visited 32 times, 1 visits today)

Check Also

जीवन में जल्दी लेने का भाव नही रखें -आचार्य सुधा सागर

-हम जिस रास्ते पर चल रहे हैं, उस पर अनंत चल चुके हैं, यह भाव …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: