Thursday, 2 July, 2020

जूनियर साइंस ओलम्पियाड में भारत को 5 गोल्ड व 1 सिल्वर मेडल

आईजेएसओ-2018 : 50 देशों के 300 विद्यार्थियों में 5 एलन स्टूडेंट्स ने सर्वश्रेष्ठ होने का गौरव हासिल किया 
न्यूजवेव @ कोटा
साउथ अफ्रीका के बोत्सवाना में 3 से 10 दिसंबर तक हुए 15वें इंटरनेशनल जूनियर साइंस ओलम्पियाड (आईजेएसओ) में भारत के 5 विद्यार्थियों ने गोल्ड मेडल व एक ने सिल्वर मेडल जीतकर देश का गौरव बढाया। इनमें से चार गोल्ड एवं एक सिल्वर मेडल जीतने वाले एलन कॅरिअर इंस्टीट्यूट के क्लासरूम विद्यार्थी हैं।


एलन निदेशक राजेश माहेश्वरी ने कोटा में विजेता स्टूडेंट्स को सम्मानित करते हुए कहा कि कोचिंग संस्थान के विद्यार्थी अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धाओं में स्वयं को सर्वश्रेष्ठ साबित कर रहे हैं। 50 देशों के विद्यार्थियों से दिमागी मुकाबला करते हुए इन्होंने देश के लिए गोल्ड मेडल हासिल किये हैं। वाइस प्रेसीडेंट तुषार पारेख ने कहा कि यह एकेडेमिक्स का ओलंपिक था।

देश-दुनिया में पढ़ाई में अव्वल

आईजेएसओ के फाइनल में 50 देशों के 300 प्रतिभावान विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया। इनमें एलन कॅरिअर इंस्टीट्यूट के कक्षा-10 के अमेय देशमुख, कक्षा-11 के मोहित गुप्ता, नमन सिंह एवं वैभव राज ने गोल्ड मेडल अर्जित किए। वहीं कक्षा-10 के बरूण परूआ ने सिल्वर मेडल जीता।
इससे पहले आईजेएसओ 2017 में अखिल जैन, मुदिता गोयल, कुणाल सामान्था व सुभर्नो नाथ रॉय तथा नियति मेहता व आदर्श राज शाह ने सिल्वर मेडल जीते। 2016 में राजदीप सिंह धींगरा, निशांत अभांगी, आयुष्मान त्रिपाठी, गौरांग देव ने गोल्ड मेडल प्राप्त किए।

साथ-साथ पढ़े और आगे बढ़े


गोल्ड मेडल जीतने वाले तीन छात्र मोहित गुप्ता, नमन सिंह व वैभव राज दो साल से एक साथ कोटा में आईआईटी की तैयारी कर रहे हैं। तीनों अच्छे दोस्त हैं और एक दूसरे से टॉपिक्स पर चर्चा कर अपने डाउट दूर कर लेते हैं।
जलगांव, महाराष्ट्र से अमेय देशमुख कक्षा-10 के छात्र हैं। उसका अगला लक्ष्य फिजिक्स ओलिम्पयाड में गोल्ड मेडल हासिल करना है। फुटबॉल, स्विमिंग के अलावा इंग्लिश बैंड सुनना पसंद है। पिता डॉ. प्रशांत देशमुख रेडियोलॉजिस्ट जबकि मां डॉ. कीर्ति देशमुख मनोवैज्ञानिक है।
भरतपुर के मोहित गुप्ता कक्षा-10 से कोटा में अध्ययनरत है। उसे आईजेएसओ में गोल्ड मेडल ओलम्पिक जीतने जैसा लगा। अलवर के छात्र नमन कक्षा-8 से एलन में पढ़ रहा है। कक्षा-11वीं में 50 देशों के विद्यार्थियों के बीच गोल्ड मेडल अर्जित करना यादगार रहा।
बेगूसराय,बिहार के छात्र वैभव ने कहा कि मेरा सपना सच हो गया। अगला लक्ष्य फिजिक्स ओलंपियाड में गोल्ड मैडल जीतना है। राउरकेला के कक्षा-10वीं के छात्र बरूण एनएसओ व आईएमओ में रैंक-1 हासिल कर चुके हैं। उसे कोटा की पढाई देश में सबसे अच्छी लगती है।

(Visited 26 times, 1 visits today)

Check Also

सुवि नेत्र चिकित्सालय अब NABH से प्रमाणित

NABH प्रमाणित होने से कोविड-19 महामारी के दौरान नेत्र रोगियों को मिलेगा क्वालिटी ट्रीटमेंट न्यूजवेव@ …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: