Sunday, 7 March, 2021

हेरिटेज लुक में बनेगा देश का नया संसद भवन-बिरला

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 10 दिसंबर को 1 बजे करेंगे नये भवन का शिलान्यास
  • लोकसभा में 876 एवं राज्यसभा में 384 सदस्यों के बैठने की व्यवस्था होगी

न्यूजवेव @नईदिल्ली
लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि दुनिया के सबसे बडे़ लोकतंत्र भारत में संसद के प्रस्तावित नये चार मंजिला भवन का शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आगामी 10 दिसंबर को दोपहर 1 बजे करेंगे।

Loksabha Speaker Om Birla

उन्होंने शनिवार को पत्रकार वार्ता में बताया कि वर्तमान संसद भवन का निर्माण 93 वर्ष पहले 1927 में किया गया था। इसे ग्रेड-1 हैरिटेज भवन की श्रेणी दी गई है। पिछले कुछ समय में भवन की स्थिति अच्छी नहीं रही। इसका निर्माण भूकंप जोन-4 के दिशानिर्देशों के अनुसार नहीं था। जबकि दिल्ली क्षेत्र भूकंप की दृष्टि से जोन-4 में आता है।
प्रस्तावित लोकसभा क्षेत्रों के परिसीमन को देखते हुये अगले कुछ वर्षों में लोकसभा की सदस्य संख्या के बढ़ जायेगी। जबकि वर्तमान भवन में अतिरिक्त सदस्यों के लिए स्थान बनाना असंभव होगा। इसे देखते हुये नए संसद भवन के निर्माण की आवश्यकता महसूस की गई।
5 अगस्त, 2019 को संसद सत्र में सदन की अनुमति से लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध किया था कि विश्व के सबसे विशाल लोकतंत्र का संसद भवन सबसे भव्य और तकनीकी रूप से आधुनिक बने। उन्होंने इस मुद्दे पर शीघ्र निर्णय लेते हुये नए संसद भवन के निर्माण का प्रस्ताव अनुमोदित किया।
2020 में बनकर तैयार हो जायेगा

  • नया संसद भवन चार मंजिल का होगा तथा इसका कुल निर्मित क्षेत्र लगभग 64,500 वर्ग मीटर है। 971 करोड़ रुपये की लागत से निर्माण कार्य की स्वीकृति 15.6.2020 को दी गई। निर्माण का कार्य टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड को दिया गया।
  • नया भवन अक्टूबर,2022 तक निर्मित हो जाने की संभावना है। नए भवन का क्षेत्र वर्तमान भवन से 17,000 वर्ग मीटर अधिक है।
  • वर्ष 2022 में स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ पर संसद का सत्र नये भवन में आहूत करने का प्रस्ताव है।
  • सेंट्रल विस्टा में बनी हुई इमारतों के स्थापत्य से सामंजस्य रखते हुए इस भवन की परिकल्पना की गई है।
  • नया भवन त्रिकोणीय डिजाइन का होगा जिसमें लोकसभा, राज्यसभा, केन्द्रीय लाउंज के साथ-साथ संवैधानिक प्राधिकारियों के कार्यालय होंगे।
  • नये भवन में लोक सभा कक्ष का डिजाइन राष्ट्रीय पक्षी मयूर को दृष्टिगत रखते हुए किया गया है जबकि राज्यसभा कक्ष का डिजाइन राष्ट्रीय पुष्प कमल के दृष्टिगत किया गया है।
  • पूरे भवन के डिजाइन में देश के महत्वपूर्ण हैरिटेज भवनों जैसे राष्ट्रपति भवन इत्यादि की स्थापत्य कला को ध्यान में रखा गया है। भवन का डिजाइन एचसीपी डिजाइन एवं मैनेजमेंट प्रा.लि., अहमदाबाद द्वारा तैयार किया गया है।

आने वाले समय में सांसदों की संख्या बढे़गी

  • प्रस्तावित लोकसभा कक्ष भूतल में होगा, जिसमें 876 सदस्यों के बैठने की व्यवस्था होगी। संयुक्त बैठकों के दौरान, कक्ष में 1224 सदस्य बैठ सकेंगे। इसी प्रकार, राज्यसभा कक्ष में 384 सदस्यों के बैठने की व्यवस्था होगी।
  • नए भवन में छह समिति कक्ष होंगे जबकि वर्तमान भवन में तीन समिति कक्ष हैं। मंत्रिपरिषद के सदस्यों के लिए 92 कमरे रखे गए हैं।
  • नए भवन में लोकसभा तथा राज्यसभा कक्ष में प्रत्येक बेंच पर एक साथ दो सदस्य बैठ सकेंगे तथा प्रत्येक सीट डिजीटल प्रणाली और टच स्क्रीन से सुसज्जित होगी।
  • नये भवन की अनुमानित आयु 100 वर्ष है। भवन को भूकंप जोन-5 के दृष्टिगत बनाया गया है जबकि दिल्ली जोन-4 के अंतर्गत आता है।
  • नए भवन में एक संवैधानिक कक्ष होगा जहां देश की लोकतांत्रिक धरोहर को प्रदर्शित किया जाएगा। इसके अतिरिक्त सदस्यों के लिए पुस्तकालय, डाइनिंग रूम तथा पार्किंग की भी व्यवस्था रहेगी।
  • नया भवन रेन हार्वेस्टिंग सिस्टम तथा वाटर रिसाइकिलिंग सिस्टम से सुसज्जित होगा।
  • लोकसभा तथा राज्यसभा कक्ष एवं सभी सम्मेलनों स्थलों पर आधुनिक ऑडियो-विजुअल सुविधाओं की व्यवस्था होगी। नये भवन में अत्याधुनिक डाटा नेटवर्क सिस्टम की व्यवस्था होगी।
  • इंटीग्रेटेड बिल्डिंग मैनेजमेंट सिस्टम में बिल्डिंग मैनेजमेंट सिस्टम, फायर अलार्म सिस्टम, पब्लिक एड्रेस सिस्टम, एक्सेस कंट्रोल सिस्टम और सीसीटीवी निगरानी की व्यवस्था भी होगी। भवन की सुरक्षा के लिए सभी आधुनिक सुरक्षा मानकों का प्रयोग किया जाएगा।
  • नये भवन के निर्माण के दौरान पर्यावरण सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा गया है। एंटी स्मॉग गन सहित ध्वनि तथा वायु प्रदूषण निरोधक यंत्र की व्यवस्था की गई है।
  • संसद सदस्यों के लिए लगभग 800 चेैम्बर्स रेडक्रॉस रोड पर श्रम शक्ति भवन एवं परिवहन भवन के निकट निर्मित किए जाएंगे। इनका निर्माण अप्रैल, 2022 में आरंभ होकर मार्च 2024 में पूरा होगा।
  • निर्माण कार्य को समय से पूरा करने के लिए टाटा कंपनी द्वारा 8000 से अधिक श्रम संसाधन लगाये जा रहे हैं। इनमें से 2000 व्यक्ति निर्माण स्थल पर कार्यरत रहेंगे।
(Visited 250 times, 1 visits today)

Check Also

क्यू.आर.कोड से गुमशुदा जानवर को ढूंढना हुआ आसान

कोटा में 10वीं के छात्र नहुश ने अनूठा व सस्ता ‘क्यूआर कोड’ विकसित किया न्यूजवेव@ …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: