Wednesday, 30 September, 2020

कोरोना डरे नहीं, सही मास्क चुनें

नेत्र सर्जन डॉ.सुरेश पाण्डेय ने कम्यूनिटी संक्रमण रोकने के लिये उपयोगी मास्क लगाने के टिप्स शेयर किये
न्यूजवेव@ कोटा
कोरोना वैश्विक महामारी के दौरान कम्यूनिटी संक्रमण से बचने के लिये सही मास्क पहनना बेहद जरूरी है। आजकल मास्क कई वैरायटी में आने लगे हैं, इनमें से कौनसा उपयुक्त व प्रभावी है, इसे लेकर संशय बना रहता है। इस बारे में सुवि नेत्र चिकित्सालय एवं लेसिक लेज़र सेन्टर कोटा के निदेशक एवं वरिष्ठ नेत्र सर्जन डॉ. सुरेश कुमार पाण्डेय ने बताया कि हैंड हाइजीन (हाथों को 20 सेकंड साबुन से धोना, सैनिटाइजर से साफ करना), रेस्पिरेटरी हाइजीन (मास्क पहन कर रहना), थ्रोट हाइजिन, (नमक के पानी के गरारे करना), फिजिकल डिस्तेंसिंग (एक मीटर की दूरी बनाकर रखना) आदि सावधानियां हमें कोरीना वायरस के संक्रमण से बचा सकती है।
वरिष्ठ नेत्र विशेषज्ञ डॉ. विदुषी शर्मा ने बताया कि जरा सी अनदेखी या लापरवाही बरतने से कोरोना पॉजिटिव के केस कम्यूनिटी में तेजी से बढ़ रहे है। कोरोना वैक्सीन उपलब्ध होने तक सही मास्क को सही तरीके से लगाकर हम सुरक्षित रह सकते हैं।

1. ऐसे करें सही मास्क का चुनाव- सही फिटिंग वाला मास्क बिना वाल्व वाला एन-95 या एन-99 मास्क उपयोग करें। कपड़े, कॉटन, सर्जिकल मास्क आप यदि उपयोग करते हैं तो 3 या 4 लेयर मास्क उपयोग में लावें जो कोरोना वायरस के 80 से 120 नैनो मीटर के सूक्ष्म कणों को नासिका में प्रवेश करने से रोक सके। सिंगल लेयर क्लॉथ मास्क के पोर्स की साइज 90 से 500 माइक्रोन होती है जिससे कॉरोना वायरस के सूक्ष्म कण मास्क पहनने के बाद भी नासिका में प्रवेश कर सकते हैं। क्लॉथ मास्क में नोज क्लिप नहीं होती जिससे नाक के ऊपर मास्क लगाने के बाद टाईट फिट नहीं हो पाती।
2. साबुन या सेनिटाइजर से हाथ साफ करके मास्क लगायें- एक बार लगाने के बाद, मास्क को बार-बार नहीं छुएं। गंदे हाथों से मास्क या चेहरे को छूना गलत आदत है और यह संक्रमण की संभावना बढ़ा देता है। मास्क पहनने के बाद मास्क की बाहरी सतह को टच करना बिल्कुल बंद कर दें।
3. नाक को हमेशा कवर रखें- अगर आपकी नाक बाहर है तो मास्क पहनने से कोई सुरक्षा नहीं। कई लोग गर्मी या कई दूसरे कारणों के चलते अपनी नाक को मास्क के बाहर रखते हैं, जबकि यह खतरनाक है। अगर आप बाहर निकलें हैं तो मास्क से मुंह और नाक को पूरी तरह कवर करें। नाक बाहर आने की स्थिति में मास्क पहनना या न पहनना एक ही बात है।
4. बातचीत के लिए मास्क नहीं हटावें– मास्क लगाने का मुख्य कारण ही ड्रॉपलेट्स को ट्रैप करना है। अगर आप मास्क हटाकर किसी से बात करेंगे तो दूसरे व्यक्ति के मुंह से निकली बूंदे आप तक पहुंच जाएंगी। वहीं, आपके मुंह से निकली ड्रॉप्स दूसरे व्यक्ति तक पहुंच सकती हैं। ऐसे में कोविड 19 संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जाता है। बिना मास्क हटाए हुए ही बातचीत करें।
5. मास्क को कैसे निकालें – मास्क को निकालते समय मास्क को सामने से न छुएं। अगर आप मास्क निकालना चाहते हैं तो पिछले हिस्से को लगी गांठ को खोलें। मास्क की पट्टियों को कान या सिर के पीछे से खोलें और उसे आराम से हटाएं। मास्क हटाने के बाद तुरंत डिस्पोज करें (या कागज की थैली में सुरक्षित स्थान पर रखें) और हाथों को सैनिटाइज करें।
6. थ्री लेयर कपड़े का मास्क पहनें – कपड़े का मास्क पहनते वक्त सावधानी रखें। थ्री लेयर कपड़े का मास्क पहनें एवं रोजाना सोने के पहले मास्क धोकर सूखा देवें। रोजाना एक ही मास्क का उपयोग नहीं करें। अन्यथा मास्क पर ठहरा हुए वायरस के आपके शरीर के अंदर तक पहुंचने की संभावना बढ़ जाती है।
7. हर रोज एक ही मास्क उपयोग नहीं करें-अपना मास्क किसी के साथ शेयर नहीं करें। तीन चार मास्क एक्स्ट्रा रखें एवं एक ही मास्क एक दिन उपयोग करें।  उपयोग किए गए एन 95 मास्क घर पर कागज की थैली में सुरक्षित स्थान पर रखें। एन 95 मास्क को तीन दिनो बाद पुनः उपयोग कर सकते हैं। यदि कपड़े के मास्क उपयोग कर रहें हैं तो आप रोजाना धो सकते है। एन 95 मास्क को नहीं धोएं।

(Visited 33 times, 1 visits today)

Check Also

कोरोना से बचाव के लिये वेक्सीन से बेहतर है फेस मास्क

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी), यूएसए के वैज्ञानिकों ने किया दावा न्यूजवेव@नईदिल्ली  नोवेल …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: