Monday, 18 October, 2021

वर्क फ्रॉम होम करने वालों पर वेतन कटौती का खतरा

न्यूजवेव @ नई दिल्ली
कोरोना काल में दुनियाभर में वर्क फ्रॉम होम कल्चर तेजी से लोकप्रिय हुआ है। विदेशों में जहां-जहां संभव हो सका है, वहां कर्मचारियों से घर में रहकर ही काम करने के लिए कहा जा रहा है, ताकि कोरोना के संक्रमण को कम किया जा सके। लेकिन अमेरिका की दिग्गज टेक कंपनियों ने वर्क फ्रॉम होम पैटर्न पर काम करने वाले कर्मचारियों के वेतन में कटौती की शुरुआत कर दी है। माना जा रहा है कि जल्द ही इन बड़ी कंपनियों की तर्ज पर भारत समेत दुनिया के बाकी हिस्से में भी टेक कंपनियां वर्क फ्रॉम होम पैटर्न पर काम करने वाले अपने कर्मचारियों के वेतन में कटौती कर सकती हैं।
कोरोना काल में देश में कई कंपनियां कर्मचारियों से वर्क फ्रॉम होम पैटर्न पर ही काम ले रही हैं। लेकिन अमेरिका से आई वेतन कटौती की खबर ने प्राइवेट सेक्टर की कई कंपनियों में काम करने वाले कर्मचारियों की चिंता बढा दी है। सिलिकॉन वैली की कई बड़ी कंपनियों ने वर्क फ्रॉम होम पैटर्न पर काम करने वाले अपने कर्मचारियों के वेतन में कटौती की शुरुआत कर दी है। ये कंपनियां अपने कर्मचारियों को उनके रेजिडेंशियल लोकेशन के आधार पर वेतन का भुगतान कर रही हैं। इसके मुताबिक टियर 1 (बड़े शहर) के शहरों में रहने वाले कर्मचारियों की तुलना में टियर 2, टियर 3 और टियर 4 के शहरों में रहने वाले कर्मचारियों का वेतन तुलनात्मक तौर पर कम होगा।
गूगल ने सबसे पहले रेजिडेंशियल लोकेशन के आधार पर कर्मचारियों के वेतन भुगतान में कटौती करना शुरू किया। गूगल के बाद ट्विटर और फेसबुक ने भी इसी तर्ज पर वेतन कटौती की शुरुआत की। इन तीन दिग्गज टेक कंपनियों की तर्ज पर अमेरिका की कुछ टेक कंपनियों ने भी रेजिडेंशियल लोकेशन के हिसाब से वेतन देने (कटौती करने) के मॉडल को अपना लिया है।

रेजिडेंशियल लोकेशन के आधार पर वेतन
माना जा रहा है कि इन अमेरिकी कंपनियों की तर्ज पर भारत समेत दुनिया के दूसरे हिस्सों में भी कंपनियां वर्क फ्रॉम होम पैटर्न के लिए रेजिडेंशियल लोकेशन के आधार पर वेतन देने के मॉडल को अपना सकती हैं। इसके लिये अमेरिकी कंपनियों ने एक लोकेशन पे कैलकुलेटर बनाया है। इसके जरिए कंपनी के कर्मचारी खुद भी अपने वेतन में होने वाली कटौती का कैलकुलेशन कर सकते हैं। इस पे कैलकुलेटर के कारण उन लोगों को काफी नुकसान होगा, जो लोग कोरोना संक्रमण काल में शहर को छोड़ कर ग्रामीण इलाकों में चले गए हैं।
कोरोना संक्रमण काल में भारत में भी ज्यादातर टेक कंपनियां अपने कर्मचारियों से वर्क फ्रॉम होम मॉडल के हिसाब से काम ले रही हैं। ऐसे में दूरदराज के क्षेत्रों से महानगरों में आकर काम करने वाले ज्यादातर कर्मचारी अपने घर या गांव लौट गए हैं। ऐसे कर्मचारी अब अपने गांव या पैतृक शहर से ही वर्क फ्रॉम होम पैटर्न के तहत काम कर रहे हैं। माना जा रहा है कि अगर भारत में भी रेजिडेंशियल लोकेशन के हिसाब से वेतन देने की शुरुआत की गई, तो ऐसे कर्मचारियों को काफी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है।

(Visited 52 times, 1 visits today)

Check Also

नीरज चोपड़ा ने देश को पहनाया स्वर्णिम ताज।

न्यूजवेव @ नई दिल्ली टोक्यो ओलम्पिक में शनिवार का दिन भारत के लिए स्वर्णिम रहा। …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: